Monday, January 19, 2015

betiya

लड़की को मत समझो बेकार।
इसके बिना है अधूरा हर परिवार।।
बहन बनकर जिसने है हर भाई को प्यार से सम्भाला।
बेटी बनकर जिसने है भरा हर बाप के दिल में खुशियो का उजाला।।
फ्रेंड बनकर समझाया जिसने।
शादी कर के दूसरा घर चलाया भी इसने।।
लड़की न होती तो आज माँ न होती।
माँ न होती तो आज जननी कौन होती?
जीना बस लड़को का नही है अधिकार।
लड़की से ही है खुश हर परिवार।।
लड़की को मत समझो बेकार।
इसके बिना है अधूरा हर परिवार।।